Wednesday, August 20, 2014

जिन्दगी ढूँढता हूँ


कर जिंदगी post facebook पर अपनी 
खुशियों का जरिया ढूँढता हूँ , 
जिंदगी की कहानी न जाने क्या होगी 
पर हर कहानी में जिंदगी ढूँढता हूँ |

Whatsapp से रखता हूँ हर खबर दोस्तों की अपने

इस शिथिल हो चुकी जिंदगी में रवानी ढूँढता हूँ ,
कमजोर नहीं सशक्त हूँ मैं
फिर भी अपनों का थोडा प्यार ढूँढता हूँ |

विचारों को करता हूँ Twitter पर tweet
Follower मिलें तो ठीक वरना Retweet करता हूँ ,
कुंठित हो चुके हैं विचार मेरे
बस दो जून की रोटी का जुगाड़ ढूँढता हूँ |

यूँ तो डरता हूँ अपनी परछाईं के अक्स से भी मैं
पर Instagram पर Pics अपलोड करता हूँ ,
आम आदमी हूँ मैं
जिंदगी में खुशियाँ और खुशियों में जिंदगी ढूँढता हूँ |

Internet और Smartphone को मान चुका हूँ जिंदगी अपनी
इसी में अब जिंदगी का सार ढूँढता हूँ ,
प्यासा हूँ मैं
जीने के लिए पानी ढूँढता हूँ |
                           

No comments:

Post a Comment